federal reserve Bank ने inflation को रोकने के लिए फिर बढ़ाया 75 basis point ब्याज दर | fed interest rates

federal reserve Bank ने inflation को रोकने के लिए फिर बढ़ाया 75 basis point ब्याज दर | fed interest rates

American Central Federal Reserve Bank ने बुधवार को again second month interest rates में  0.75 % की बढ़ोतरी की ।

अमेरिका में 40 साल की रिकॉर्ड महंगाई को काबू करने के लिए बैंक ने पहली बार इतने आक्रामक तरीके से ब्याज दरों में बढ़ोतरी की हैं लेकिन इन ब्याज दरों की बढ़ोतरी से अमेरिका की इकोनामी को एक तेज झटका लगने का रिस्क भी है


पिछले 40 सालों का रिकॉर्ड महंगाई होने की वजह से अमेरिका आर्थिक मंदी के बहुत करीब है इसकी वजह से फेडरल रिजर्व बैंक अमेरिका की इकोनामी को बिना किसी नुकसान के महंगाई को काबू करने की संपूर्ण कोशिश कर रहा है और अमेरिका के मंदी से होने वाले पूरे दुनिया के आर्थिक ग्रोथ के नुकसान को भी काबू करने की कोशिश कर रहा है


अमेरिकन सेंट्रल फेडरल रिजर्व बैंक जून और जुलाई महीने में कुल मिलाकर ब्याज दरों में 1.50 फीसदी तक बढ़ोतरी कर चुका है जो जो कि 1980 के दशक के बाद सबसे तीव्र गति की बढ़ोतरी है  फेडरल रिजर्व बैंक ने इस साल चौथी बार ब्याज दरों को बढ़ाया है


Federal Reserve Bank मैं बुधवार को ब्याज दरों की बढ़ोतरी के साथ ही federal funds के लिए target range 2.25% से 2.50% कर दिया है फेडरल रिजर्व बैंक ने अपने आधिकारिक बयान में कहा कि वह अमेरिकी महंगाई को 2 फीसदी के लक्ष्य पर वापस लाने के लिए वचनबद्ध है साथ ही बैंक ने अपने बयान में कहा कि वह महंगाई से जुड़े जोखिम पर अपनी पूरी नजर बनाए हुए हैं।


फेडरल रिजर्व बैंक ने महंगाई को काबू करने के अपने लक्ष्य पर फोकस करते हुए कहा कि हमें उम्मीद है कि टारगेट रेंज में मौजूदा बढ़ोतरी अभी उचित होगी यह किसी तरह की रिस्क के सामने आने पर पॉलिसी के मुताबिक एडजस्ट करने में मदद करेगी जिससे अमेरिका की महंगाई को काबू करने के लक्ष्य को हासिल करने में कोई बाधा उत्पन्न नहीं करेगी ।


इसके साथ ही फेडरल रिजर्व बैंक ने कहा कि रूस और यूक्रेन की लड़ाई से आर्थिक कठिनाइयां पैदा हो रही है और यह विश्व में महंगाई पर अतिरिक्त दबाव डालेंगे । 


आपको बता दें अमेरिका सेंट्रल फेडरल रिजर्व बैंक की तरफ से ब्याज दरों में बढ़ोतरी का अभी तक अमेरिका की आम जनता पर कोई असर नहीं हुआ है क्योंकि भोजन और गैस से लेकर किराए वाली हर वस्तु की लागत अब महंगी ही हैं ।


एक टिप्पणी भेजें (0)
और नया पुराने